सितंबर  2015

 

Cover - Sept. 15

कुलपति उवाच

सृजन-शक्ति

के.एम. मुनशी

अध्यक्षीय

तृष्णा

सुरेंद्रलाल जी. मेहता

पहली सीढ़ी

हार मत मानना

सच्चिदानंद जोशी

आवरण-कथा

हम पुनः संकल्पित हैं

सम्पादकीय

कमज़ोर लोगों की मज़बूत भाषा

बाल मुकुंद

जनभाषा हिंदी की जय हो

डॉ. बुद्धिनाथ मिश्र

हमारा लोकतंत्र और लोकभाषाएं

केशव प्रथमवीर

स्वस्थ लोकतंत्र के समग्र विकास के लिए

नंद भारद्वाज

सुनें आप, मेरे मन की बात

प्रभु जोशी

घर-आंगन बुहारने की ज़रूरत

मनोजकुमार श्रीवास्तव

विश्व हिंदी सम्मेलनों का सच

गंगा प्रसाद विमल

भाषा की सत्ता

प्रो. गिरीश्वर मिश्र

अंग्रेज़ियत सबसे बड़ी चुनौती है

तोमियो मिज़ोकामि

जब भाषा की पहली कोंपल फूटी होगी

जवाहरलाल नेहरू

नोबेल कथा

मेरे पिता

अल्बेयर कामू

उपन्यास अंश

वर्ण व्यवस्था

नरेंद्र कोहली

शब्द-सम्पदा

माटी की मूरतें

विद्यानिवास मिश्र

आलेख

‘दूर हटो ऐ दुनियावालो हिंदुस्तान हमारा है

पुष्पा भारती

हर फौजी उस कवि के हाथ...

दिनेश लखनपाल

खिड़की से जो दिख रहा है

कृष्ण कुमार

श्रीलंका का पागल कर देने वाला

डॉ. श्रीराम परिहार

मातृभाषा के पक्ष में

परिचय दास

कृष्ण धड़कता दिल हैं

डॉ. दुर्गादत्त पाण्डेय

कालयान के झरोखे से!

रामशरण जोशी

सूरीनाम की धरती पर धड़कता भारत

कविता मालवीय

‘हममें भारतीयता का विकास..’

कैलाशचंद पंत

पंथ-निरपेक्षता की पुनर्व्याख्या हो

कर्ण सिंह

बांग्लाभाषी नलिनी मोहन थे हिंदी

कृपाशंकर चौबे

इस नयी पनपती भाषा का नाम है इमोजी

किताबें

कथा

महाराज कुमार की प्रेम कहानी

शरद पगारे

कविताएं

ऐसा क्यों है

कुमार शिव

हाइकू

मनोज सोनकर

समाचार

भवन समाचार

संस्कृति समाचार

आवरण चित्र

चरन शर्मा

Leave a Reply

Your email address will not be published.