या इलाही ये माजरा क्या है?  –  सूर्यबाला

व्यंग्य

बाहर कार का हॉर्न बजा और कुछ भद्र महिलाएं उतरकर अंदर आती दिखीं. मैंने स्वागत में हाथ जोड़े

और पूछा- कहिये कैसे आयीं?

उन्होंने लगभग एक साथ उत्तर दिया- हम अपना स्त्राr-विमर्श करवाने आयी हैं.

मैं बुरी तरह चकरायी- ‘क्या कहा आपने?’

यही कि हमें अपना स्त्राr-विमर्श करवाना है.

मैंने लगभग हकलाते हुए कहा- देखिए स्त्राr-विमर्श किया जाता है, करवाया नहीं जाता. लेकिन ये बैठे बिठाये आप लोगों को स्त्राr-विमर्श करवाने की क्या सूझी?

वे हुमक गयीं- ‘आपको नहीं करना है तो मत करिए, स़ाफ स़ाफ कह दो, हम किसी और से करवा लेंगे… बहाने मारने की ज़रूरत नहीं… हम इज्ज़तदार घरों की महिलाएं हैं, खुद कोई काम करने की न आदत, न इजाज़त, न टाइम ही. खुद ही अपना स्त्राr-विमर्श करेंगे तो दुनिया हंसेगी कि देखो डाइमंड-टावर वालियों को, अब यह नौबत को आ गयी कि अपने आप अपना स्त्राr-विमर्श- स़ाफ था कि वे तुली बैठी थी और मैं, ‘या इलाही ये माजरा क्या है’ के बीच खब्त. नरमी से समझाया- देखिए मेरा मतलब यह जानना था कि आखिर क्या वजह है जो आप लोग स्त्राr-विमर्श के लिए कमर कस के निकल पड़ीं इस काम के लिए…

अब वे भी नरम पड़ीं. खुलासा करते हुए बोलीं- वजह कुछ खास नहीं, जैसा कि आपको बताया, हम लोग खाते-पीते इज्ज़तदार घरों से हैं. भगवान का दिया सब कुछ है. सारी सुख-सुविधाएं, ऐशो आराम… सिवाय स्त्राr-विमर्श के. उसी की कमी रह गयी है. तो सोचा आप पढ़ी लिखी हैं, लेखिका भी हैं, आपके यहां से कराना अच्छा रहेगा…

लेकिन जब आप लोग सुकून की ज़िंदगी बसर कर रही हैं तो स्त्राr-विमर्श के पचड़े में क्यों पड़ रही हैं…?

वो आपसे कहा न कि हम बड़े घरों की स्त्रियां हैं तो पढ़ी-लिखी इलीट सोसाइटी की लेडीज के बीच में उठना-बैठना चाहती हैं. लेकिन हमसे कहा गया कि उन लोगों के साथ उठने-बैठने की पहली शर्त स्त्राr-विमर्श है. बिना स्त्राr-विमर्श के आप उनके बीच पूरी तरह अनफिट रहेंगी तो सोचा, ठीक है, जैसे फेशियल करवाते हैं, पैडीक्योर, मैनीक्योर करवाते हैं, वैसे ही स्त्राr-विमर्श भी करवा लेंगे, और उन लोगों के बीच उठ बैठ लेंगे.

समझ गयी, बस इतनी सी बात, अरे ये तो आप लोग बेहद आसानी से…

वे उत्साहित होकर बताने लगीं- ‘हमने सोशल वर्क भी काफी किये हैं. कई बार औरतों, बच्चों को सिलाई मशीनें, पाउडर-मिल्क, स्कूल बैग और किताबें भी बांटी हैं. हमारे फोटो भी लोकल अखबारों में छपे हैं लेकिन हर बार हमसे यही कहा गया कि खाली सिलाई मशीनें बांटने से काम नहीं चलेगा. इसके पीछे सॉलिड मकसद होना चाहिए, स्त्राr-विमर्श टाइप.’

ओह! स्त्रियों के लिए आपके दिलों में इतनी करुणा है… तो बस अपनी-अपनी गाड़ियां निकालिए और पास के गांव, कस्बों की दुःखियारी स्त्रियों, बूढ़ियों और बच्चियों की दुनियां से शुरू कीजिए. उनके दुख-सुख, तकलीफों और लाचारियों को जानिए. उनकी उम्मीदों और सपनों को सच करने में लग जाइए. सच की भारतीय स्त्राr तो वहीं बसती हैं… और आपके पास तो साधन भी हैं, कुछ करने का जज़्बा भी.

लेकिन उनका चेहरा उतरता चला गया- अरे, आपने तो खासे झमेले में डाल दिया. हम हरिभजन को आये थे, आप कपास ओटाने लगीं. कहना आसान है- ‘गांवों में जाइए’ कभी गयी हैं आप गांवों में? कानो सुनी और आंखों देखी में ज़मीन-आसमान का अंतर होता है. इतना कूड़ा-कचरा, गड्ढे गड़हियों से पटी सड़क कि टायर पंचर हो जाये. बदबू इतनी कि नाक फट जाये… आपने भी कहां ला पटका… हमने तो सुना था, लाइब्रेरियों में हो जाता है स्त्राr-विमर्श, व्याख्यान, वक्तव्यों से भी… उस कैटेग्री की कुछ पढ़े लिखों वाली तरकीबें सुझाइए- आप स्वयं स्त्राr हैं, लेखिका भी, यह सब करती ही रहती होंगी.

सच पूछिए तो, मैं तो अब तक अपने अंदर वाली स्त्राr का विमर्श कर ही नहीं पायी…

‘अरे?… उन्होंने अचम्भे से आंखें झपकायीं- देखने में तो पढ़ी-लिखी और मॉडर्न लगती हैं आप-’ मैंने उसी कातर भाव से कहा- ‘फुर्सत ही नहीं मिली न!’

उन्होंने आग्नेय नेत्रों से मुझे घूरते हुए कहा- ‘खैर फुर्सत न मिलना तो एक बहाना है लेकिन अगर सचमुच नहीं किया तो आपने समाज और समूची स्त्राr-जाति के प्रति धोखा किया है-

देखिए मुझे गलत मत समझिए, मेरा काम है लिखना, स्त्राr पर भी मैंने बहुत लिखा है. कभी अवसर आया तो आप जैसी पर भी लिख सकती हूं- उन्होंने फिक से मुंह बनाया, उससे क्या बनेगा? मैंने कहा- बनेगी न  एक पूरी, मुकम्मल स्त्राr. उनका चेहरा एकदम से चमका, फिर बुझ गया- लेकिन ऐसी स्त्राr का हम क्या करेंगें जिसका विमर्श ही न हुआ हो.

मार्च 2016

Leave a Reply

Your email address will not be published.