मार्च 2017

कुलपति उवाच 

03             स्वभाव की महिमा

                के.एम. मुनशी

अध्यक्षीय

04             संस्कृत महत्त्वपूर्ण क्यों है

                सुरेंद्रलाल जी. मेहता

पहली सीढ़ी

11             अपनी आवाज़

                मेरी ओलिवर

आवरण-कथा

12             नारी तुम केवल श्रद्धा हो…

                सम्पादकीय

14             सवाल बराबरी के अधिकार  और सम्मान का है!

                सुधा अरोड़ा 

22             आइए, त्याज्य और वरेण्य का  चुनाव करना सीख लें

                पुष्पा भारती

29             कैसे सपना देखें हमारी बेटियां?

                जयंती रंगनाथन

33             अकेले की मुक्ति सम्भव नहीं

                मधु कांकरिया

37             चिंता समबिंदु की अंत:खोज की

                डॉ. अचला नागर

43             बसंत में लड़की, लड़की का बसंत

                ममता सिंह

46             सच की बेला आयी

                अमृता प्रीतम

नोबेल कथा

48             सोमवार बेहतर है इतवार से

                नादीन गॉर्डिमर

व्यंग्य

60             लेखक-आत्मा संवाद

                सूर्यबाला

धारावाहिक उपन्यास – 14

102           शरणम्

                नरेंद्र कोहली

शब्द-सम्पदा

134           रामरसोई

                विद्यानिवास मिश्र

आलेख 

56             भीतर-बाहर से उजले मन की मलिका

                सुनीता बुद्धिराजा

62             कुछ मत चाहो, दर्द बढ़ेगा

                ममता कालिया

67             `हम दर्शक भी हैं और भागीदार भी’

                स्वेतलाना एलेक्सीविच

70             नक्शे से बाहर कोई रास्ता

                अनुराधा बेनीवाल

88             दामाने ख्याले यार छूटा जाये है मुझसे

                पद्मा सचदेव

98             जब अतीत से जुड़ते हैं…

                डॉ. उषा मंत्री

117           कहां खो गयी है हमारे भीतर की करुणा?

                होमी दस्तूर

121           मुझ में मेरे पिता

                नीतू अरोड़ा

128           मध्य प्रदेश की राजकीय मछली : महासीर

                डॉ. परशुराम शुक्ल

132           पेड़ भी उसका मैती है!

138           किताबें

कथा

80             पहेली

                सुदर्शना द्विवेदी

90             संस्कार

                वंदना देव शुक्ल

कविताएं

45             औरतें

                सरला माहेश्वरी

69             मेरा अपना आप

                गुंजन भाटिया

78             गार्गी, दो अपना उत्तराधिकार!

                डॉ. राजम पिल्लै

87             छोटी थी…

                चित्रा देसाई

समाचार

140           भवन समाचार

144           संस्कृति समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published.