मार्च  2015

 

Cover - Mar.15

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

कुलपति उवाच

धारणा, ध्यान, समाधि

के.एम. मुनशी

शब्द यात्रा

चल-चर

आनंद गहलोत

पहली सीढ़ी

महावृक्ष के नीचे

अज्ञेय

आवरण-कथा

सौ होलियों का रंग

सम्पादकीय

ऐसे थे हास्यरसावतार

शेरजंग गर्ग

कवि-सम्मेलन लाल किले के

गोपाल प्रसाद व्यास

ब्रज के रंग-गुलाल

गोपाल प्रसाद व्यास

सामाजिक नैतिकता अच्छे व्यंग्य की शर्त है

गोपाल प्रसाद व्यास

किस्सा दिल्ली के मूर्ख महासम्मेलन का

मुकुल उपाध्याय

धारावाहिक आत्मकथा

पुरोगामिनी (दूसरी कड़ी)

डॉ. सुधा

नोबेल कथा

बूढ़ी हवेली

फ्रांज एमिल सिलांपा

व्यंग्य

वह मुस्कराते क्यों नहीं हैं

गोपाल चतुर्वेदी

भाव का भूखा है भगवान

विष्णु नागर

मुआवजा मंत्रालय

शशिकांत सिंह ‘शशि’

सत्यार्थी ही क्यों, सेंगर क्यों नहीं?

कैलाश सेंगर

हमारी पार्टी ही देश को बचायेगी

हरि जोशी

आलेख

एक ही बगीचे के सुंदर फूल

बराक ओबामा

विकृतियां अस्वीकार्य हैं

नंद चतुर्वेदी

सभ्यता की रस लिपि

परिचय दास

निर्भय प्रश्नाकुलता से जनमता है व्यंग्य

विद्यानिवास मिश्र

मेरा आम आदमी

आर. के.लक्ष्मण

स्त्रियां ही इस दुनिया को बदल सकती हैं

सुधा अरोड़ा

संवेदनहीनता के घेरों में जकड़ा स्त्री विमर्श

नताशा अरोड़ा

स्त्री मानस की ढेरों गहराइयां…

सूर्यबाला

जलपरी ड्यूगांग

डॉ. परशुराम शुक्ल

इतवार का दिन

कांतिकुमार जैन

क्या मैं अंदर आ सकता हूं?

रमेश थानवी

किताबें

कथा

जरीला (उपन्यास अंश)

भालचंद्र नेमाडे

कहानियां

चार कविताएं

गोपाल प्रसाद व्यास

गांवों की लड़कियां      

प्रभा दीक्षित

समाचार

भवन समाचार

संस्कृति समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published.