दिसम्बर 2014

Cover - Dec 15

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

कुलपति उवाच

कर्मयोगी का सत्य

के.एम. मुनशी

अध्यक्षीय

क्या है जीवन का प्रमुख लक्ष्य

सुरेंद्रलाल जी. मेहता

पहली सीढ़ी

पत्थर और मनुष्य

एरिक फ्रॉयड

आवरण-कथा

हज़ार फूल खिलने दो

सम्पादकीय

बहुलता और सहिष्णुता ने देश को एकजुट रखा है

रामशरण जोशी

खतरे में है संवाद और समन्वय की परम्पराएं

के. सच्चिदानंदन

निरंकुशता के विरुद्ध

मृणाल पाण्डे

संकीर्णता, असहिष्णुता का फन कुचलना होगा

डॉ. शिवनारायण

तो असहिष्णुता नहीं बढ़ रही है?

विष्णु नागर

‘विमर्श का नकार भारतीय दर्शन-परम्परा का नकार है’

डॉ. रोमिला थापर

पहले सवाल को सुलझा तो लें

न्यायमूर्ति चंद्रशेखर धर्माधिकारी

व्यंग्य

तुलसीदास हाजिर हो

शशिकांत सिंह ‘शशि’

नोबेल कथा

जो देश के लिए लड़े

मिखाइल शोलोखोव

उपन्यास अंश

महारानी सत्यवती

सुधीर निगम

शब्द-सम्पदा

पानी बिन सब सून

विद्यानिवास मिश्र

आलेख

‘मैं लेखक बनूंगा’

डॉ. अचला नागर

बालशौरि रेड्डी

डॉ. रामशंकर द्विवेदी

सुनहरी महासीर

डॉ. परशुराम शुक्ल

गणसेवकत्व

विनोबा भावे

भारतीय मुस्लिम समुदाय की चुनौतियां

एम. हामिद अंसारी

एक दस्तावेज़

अमृता प्रीतम

भारतीय होना एक प्रक्रिया है

प्रीतीश नंदी

आर्य संगीत रामायण वाले रोहानवी

विजय सहगल

मैं जिस अशोक जी को जानती थी

शर्मिला बोहरा जालान

हम कौन सी किताबें पढ़ते हैं

सूरज प्रकाश

किताबें

कथा

पूत वडेरे … दुख घनेरे

डॉ. विमला मल्होत्रा

कविताएं

दो कविताएं

के. सच्चिदानंदन

क्या ले जाएगा

उदयप्रताप सिंह

जादूगर

सुरजीत पातर

समाचार

भवन समाचार

संस्कृति समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published.