दिसंबर 16

कुलपति उवाच

स्वाध्याय का अर्थ

के.एम. मुनशी

अध्यक्षीय

हमारी अपराजेय, अदृश्य शक्ति

सुरेंद्रलाल जी. मेहता

पहली सीढ़ी

शब्द और सत्य

अज्ञेय

आवरण-कथा

सत्यम्, शिवम्, सुंदरम्

सम्पादकीय

सोने का ढक्कन और सत्य की धर्म-दृष्टि

रमेशचंद्र शाह

कल्याणकारी चेतना-शक्ति का नाम है शिवम्

सुधीर कुमार

सुंदर तुम आये आज प्रात में

प्रयाग शुक्ल

सौंदर्य-बोध और शिवत्त्व-बोध

अज्ञेय

सत्य हमेशा पावन है

विनोबा भावे

शिवत्त्व के बिना मूल्यहीन है सुंदरता

डॉ. दुर्गादत्त पाण्डेय

नोबेल कथा

जाबालवी

नजीब महफूज

व्यंग्य

आला अफसर का स़फाई अभियान

प्रदीप पंत

धारावाहिक उपन्यास

शरणम्

नरेंद्र कोहली

शब्द-सम्पदा

आवाज़ें

विद्यानिवास मिश्र

आलेख

अकेले नहीं आते बाढ़ और अकाल

अनुपम मिश्र

सौ साल एक संकल्प के

न्यायमूर्ति चंद्रशेखर धर्माधिकारी

हां, मनुष्य कम्प्यूटर बनता जा रहा है!

अखिलेश

इंफाल विश्वविद्यालय में एक दिन

प्रेम कुमार

हरियाणा की राजकीय मछली ः कल्बासु

डॉ. परशुराम शुक्ल

स्मृतियों के प्रतिबिम्ब

सुरेश ऋतुपर्ण

मौलाना ‘चतुर्वेदी’

सोहेल हलीम

किताबें

कथा

दिल्ली में सुदामा

रमेश उपाध्याय

उसकी व्यथा

विमलादित्य मामल्लान्

कविताएं

सत्यम् शिवम् सुंदरम्

नरेंद्र शर्मा

सुंदर तुमि एसेछिले आज प्राते

रवींद्रनाथ ठाकुर

जवाब हवा में है

बॉब डिलन

नवगीत

डॉ. इसाक ‘अश्क’

समाचार

भवन समाचार

संस्कृति समाचार

1 comment for “दिसंबर 16

Leave a Reply

Your email address will not be published.