सत्य का गणित

♦  ब्रह्मदेव       

 किसी ने सच ही कहा है,

अंत में,

सत्य की ही जीत होती है.

अंत में जब

न हम रहेंगे

न तुम रहोगे

न कोई और रहेगा

यानी तब शून्य होगा

किसी दार्शनिक ने ही कहा था-

‘शून्य सत्य है,’

अब पता लगा- सत्य शून्य है!

(मार्च 1971)

Leave a Reply

Your email address will not be published.