जुलाई 2019

कुलपति उवाच 

03    बौद्धिकों का संकट

      के.एम. मुनशी

अध्यक्षीय

04    साहित्य के माध्यम से इतिहास

      सुरेंद्रलाल जी. मेहता

पहली सीढ़ी

11    बुल्ला की जाणां मैं कोण?

      बुल्लेशाह

आवरण-कथा

12    `हम’ को समझने का अवसर

      सम्पादकीय

14    सबको गले लगाने वाला आस्तिक सोच

      बलराम शुक्ल

22    भारत के सूफी रंग

      सुमन मिश्र

29    सूफी विचार के प्रकाश-स्तम्भ 

      एज़राइल रिशेल

33    मनुष्यता के भविष्य के लिए

      एक सूफी साधक

36    अल्लाह वाले

      सैयद फ़ीरोज़ अशऱफ

42    मैं कौन हूं?

      ओशो

आलेख 

62    गिरीश कर्नाड को याद रखने का मतलब

      गीता हरिहरन

65    अल्लाह! यह कौन आया है!

      अमृता प्रीतम

68    लौटना गांव का गांव के रूप में

      विनोद शाही

78    नीर की निर्मलता

      प्रयाग शुक्ल

81    चल खुसरो घर आपने

      पद्मा सचदेव

96    डीह बाबा का जाना

      सत्यदेव त्रिपाठी

106   मैं सांस्कृतिक अलगाव नहीं चाहता

      महात्मा गांधी

118   परदेसी जो भारत की माटी में रच-बस गये

      डॉ. ए.एल. श्रीवास्तव

123   नाचती नहीं थीं कानपुर की बुलबुलें

      पूरन सिंह हीत

126   रूमी के बहाने एक जीवन-दृष्टि से परिचय

136   किताबें

व्यंग्य

103   ािढकेट और ऊपरी साया

      अरुणेंद्र नाथ वर्मा

शब्द-सम्पदा

138   छाई पच्छिम की बदरिया

      अजित वडनेरकर

कथा

51    बाप

      प्रिया तेंडुलकर

109   अवशेष

      हरभजन सिंह मेहरोत्रा

कविताएं

32    वेख फरीदा

      बाबा फरीद

35    बुरे रस्ते कदी न जईयो

      बुल्ले शाह

48    मधुशाला

      हरिवंशराय बच्चन

93    दो कविताएं

      अनिल जोशी

117   दो कविताएं

      उद्भ्रांत

128   कुछ कविताएं रूमी की

समाचार

140   भवन समाचार

144   संस्कृति समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *