ऑनलाइन भुगतान

60 साल पहले एक बीज बोया गया था, जो आज फलों-फूलों से लदा वृक्ष बनकर समाज को सदविचारों की छाया दे रहा है. देश के आज़ादी प्राप्त करने के पांच वर्ष बाद ही 1952 में स्वर्गीय श्री गोपाल नेवटिया ने हिंदी में एक डाइजेस्ट प्रकाशित करने की ज़रुरत महसूस की थी. इसी कामना ने नवनीत को जन्म दिया, जो पिछले 60 साल से निरंतर प्रकाशित हो रहा है.
आज नवनीत संभवतः हिंदी की सबसे पुरानी मासिक पत्रिका ही नहीं है,देश की सबसे महत्वपूर्ण पत्रिकाओं में इसकी गणना होती है. साहित्य, संस्कृति और समाज की धमनियों को समझने, उनकी धड़कनों को आवाज़ देने और समय को दिशा देने की एक सार्थक समझ और कोशिश का एक नाम है नवनीत.
भारतीय विद्या भवन द्वारा प्रकाशित यह पत्रिका उन मूल्यों और आदर्शों की संवाहक है जो भारतीय संस्कृति को एक पहचान देते हैं.
समय की आवश्यकताओं को समझकर उनके अनुरूप स्वयं को ढालने और उन आवश्यकताओं की पूर्ति करते हुए, समय की शक्तियों को गति देने का एक अविराम संकल्प है नवनीत.
हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओं के शीर्ष रचनाकारों की लेखनी के माध्यम से यह पत्रिका सांस्कृतिक पत्रकारिता की एक पहचान बन चुकी है.
विषयों की विविधाता और गहराई के साथ उनका विश्लेषण नवनीत की विशेषता है और पुरानी तथा नई पीढ़ी के लिए सार्थक सामग्री नवनीत को विशिष्ट बनाती है.

Navneet Hindi Magazine [SUBSCRIBE NOW]

Hindi monthly, devoted to life, literature and culture.

Language : Hindi
Periodicity : Monthly.
Publishing on : 1st of every month.
Editor : Vishwanath Sachdev
Editorial, Circulation & Advertisements:

Navneet
Bharatiya Vidya Bhavan
Kulapati Dr. K. M. Munshi Marg,
Chowpatty, Mumbai 400 007.
Phone: 022-23631261 / 23634462
Fax No: 022-23630058
E-mail:bhavan@bhavans.info

SUBSCRIPTION RATES

12 issues per year
Single Copy Regular: Rs. 30/-
Single Copy Special: Rs. 40/-
Inland Rates
One year: Rs. 300/-
Two years Rs. 580/-
Three years Rs. 850/-
Five years Rs. 1,400/-
Ten years Rs. 2,800/-

Abroad

  • Surface Mail All Countries (One year): Rs. 1,500/-
  • Air Mail All Countries(One year): Rs. 2,600/-

POSTAGE FREE

10 comments for “ऑनलाइन भुगतान

  1. DHARMA VEER GUPTA
    November 26, 2014 at 4:11 pm

    I want to read old issues of Navneet (1950-1976).Is it possible on line or in book form.
    I want to subscribe for it on line and pay through credit card. Please guide.

    Regards,
    Dharma veer gupta

  2. Surendra Prasad Deshwal
    December 3, 2014 at 9:17 am

    I want to subscribe Navneet Hindi and make payment online by DEBIT CARD but your site is demanding payment by CREDIT CARD. Please suggest remedy.

  3. Aarti Sathe
    February 27, 2015 at 12:41 pm

    I want direct purces navneet by post please give me infarmatio .and what is the process
    Thanks

  4. March 19, 2015 at 10:59 am

    I want to subscribe navneet as new entry.But how? Kindly reply. Where to write my address of del vary to you so that payment for it be done to get. And for my door delivery. Thanks.

  5. subodh
    August 23, 2015 at 10:11 am

    I want navneet book but how pls tell me

  6. September 11, 2015 at 6:44 pm

    मैं “नवनकत” पत्रिका का वार्षिक ग्राहक बनना चाहता हँ?, मगर कैसे और पूरी प्रक्रिया बताऐं?।

  7. pravesh
    August 10, 2016 at 11:10 pm

    Hi, do you provide electronic copy of the journal so that it could be read in kindle or ipad.
    Thanks

  8. Sachin Kumar
    March 10, 2018 at 9:02 am

    नवनीत पत्रिका का सदस्य बनने के लिए क्या प्रक्रिया है? कैसे मैं इस पत्रिका की सदस्यता प्राप्त कर सकता हूं ? कृपया मुझे इसकी जानकारी देने का कष्ट करें।

  9. DK Pradhan
    March 26, 2018 at 9:32 pm

    I want to read old issues of Navneet (1950-1976).Is it possible on line or in book form.
    I want to subscribe for it on line and pay through credit card. Please guide.

    Regards,
    DK Pradhan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *